ALL Social Crime State Politics Entertainment Press Conference Education Devlopment
1 वर्षीय काजिम व 6 वर्षीय साजिया को मिलाया परिजनों के छलक पड़े आंसू
March 20, 2020 • Faisal Hayat • Social

 शावेज़ आलम


✒✒✒✒✒✒✒✒
कानपुर 20 जनवरी। आज चार लाइन कानपुर ने 1 वर्षीय काजिम पुत्र मोहम्मद जानवर 6 वर्षीय पुत्री मोहम्मद शहीद निवासी ग्राम सगरा थाना बिठूर कानपुर नगर को उसके परिजनों से मिलाया अपनी खोई हुई बच्चों को पाकर परिजनों की खुशी का ठिकाना ना रहा। चाइल्ड लाइन कानपुर द्वारा बच्चों के परिजनों की खोज के लिए लगातार बच्चों द्वारा बताए गए पते के अनुसार किया जा रहा था लेकिन बच्चे छोटे होने के कारण अपने पति के बारे में ज्यादा जानकारी देने में असमर्थ है। जिसके साथ ही कार्यकर्ताओं द्वारा अपने संपर्क सूत्रों के माध्यम से परिजनों को ढूंढने का काफी प्रयास किया गया जिस क्रम में बच्चों के परिजनों की खोज चाइल्ड अथक प्रयासों से हुई जिसके पश्चात बच्चों के कार्यालय और समस्त आवश्यक कार्यवाही करने के उपरांत बच्चों को परिजनों की सुपुर्दगी में दे दिया गया ।
चाइल्ड लाइन  कानपुर द्वारा बच्चों के परिजनों से बात की गई जिस पर ज्ञात हुआ कि बच्चे अपनी रिश्तेदारी में कानपुर आए थे और घर के बाहर खेलते खेलते रास्ता भटक गए। चाइल्डलाइन कानपुर के समन्वयक प्रतीक धवन ने बताया कि परिजनों की लापरवाही के कारण बच्चे अपने परिजनों से बिछड़ जाते हैं और उनको परिजनों से दूर रहना पड़ता है उसी प्रकार का मामला चाइल्ड लाइन कानपुर के प्रकाश में आया है जहां पर जनों की लापरवाही के कारण उनकी बालिका से बिछड़ गई और अंतत आचार्य लाइन कानपुर को बच्चों को उसके परिजनों से मिलाने में सफलता मिली।
साथ ही उन्होंने बताया कि अपने खोए हुए बच्चों को पाकर उनकी खुशी का ठिकाना ना रहा और उन्होंने चाइल्ड लाइन कानपुर का आभार व्यक्त किया जिसके साथ ही बालक का जिम पुत्र मोहम्मद जाऊंगा माता शालू व बालिका शाजिया उत्सर्जी उम्र 6 वर्ष पुत्र मोहम्मद शहीद निवासी ग्राम टिकरा थाना बिठूर कानपुर नगर को बच्चों की देखरेख करने हेतु विशेष हिदायत देते हुए सौंपा गया।
चाइल्डलाइन कानपुर के निदेशक कमल कांत तिवारी जी ने बताया कि बच्चे बहुत छोटे होने के कारण अपने बारे में पर्याप्त जानकारी देने में असमर्थ है जिस कारण चाइल्डलाइन को बच्चों के परिजनों को ढूंढने में काफी समस्या का सामना करना पड़ा लेकिन अंततः सफलता मिली और परिजनों की खोज संभव हो सकी।