ALL Social Crime State Politics Entertainment Press Conference Education Devlopment
एनसीटीई ने 12 लाख शिक्षकों को डिप्रेशन में पहुंचाया एचआरडी मंत्री से डीएलएड को पूरी तरह मान्यता देने की मांग।
November 16, 2019 • Faisal Hayat


कानपुर 15, नवंबर उ०प्र० कांग्रेस कमेटी के सदस्य एवं मुस्लिम वेलफेयर एण्ड एजूकेशनल संस्था के सचिव इखलाक अहमद डेविड की अध्यक्षता मे एक मीटिंग कर्नलगंज मे हुई जिसमें एनआईओएस (NIOS) द्वारा डीएलएड कोर्स करने वाले शिक्षकों के साथ मज़ाक किया गया जब उन्होंने दो वर्षीय डीएलएड डिप्लोमा कोर्स की परीक्षा उत्तीर्ण कर ली तो राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षक परिषद (NCTE) ने डीएलएड शिक्षकों को पात्र मानने से इंकार कर दिया जिससे शिक्षकों मे नाराज़गी व गुस्सा है। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक जी से डीएलएड कोर्स को पूरी तरह से मान्यता देने की मांग की व उसी से सम्बंधित पत्र भी मीटिंग के बाद स्पीड पोस्ट व फैक्स के माध्यम से एचआरडी मंत्री को भेजा।
वक्ताओं ने कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की पहल पर शैक्षणिक विभाग एनआईओएस (NIOS) ने प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों में कार्यरत अप्रशिक्षित शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के लिए डीएलएड का दो वर्षीय डीएलएड कोर्स (2017-19) चलाया जिसमें देश के विभिन्न राज्यों के लगभग 12 लाख अप्रशिक्षित शिक्षकों ने कोर्स किया डीएलएड कोर्स की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद अचानक राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षक परिषद (NCTE) ने डीएलएड उत्तीर्ण शिक्षकों को शिक्षक भर्ती व न्यूनतम शिक्षक योग्यता में कोई छूट व भर्ती से जुड़ी कोई भी परीक्षा में न बैठने का निर्देश देते हुए डीएलएड शिक्षकों को शिक्षक भर्ती के लिए पात्र नही माना। डीएलएड कोर्स करने के बाद 12 लाख शिक्षक व उनके परिवार वाले सरकार के इस कदम की सरहाना कर रहे थे शिक्षक भर्ती मे उसकों मान्यता मिलने की आशा की किरण दिखाई दी, जिसकों राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षक परिषद (NCTE) ने एक पल मे तोड़ दिया।
शिक्षकों ने दो वर्षीय डीएलएड कोर्स (2017-19) करने में अपने समय के साथ-साथ हज़ारों रुपयें बर्बाद किये राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षक परिषद (NCTE) के ऐसे निर्देश से उनकों धक्का लगा उनमें केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ नाराज़गी है शिक्षक कोर्ट जाने की तैयारी भी कर रहे है, 12 लाख शिक्षक व शिक्षकों के परिवार वाले डिप्रेशन में है। सभी वक्ताओं ने एक स्वर में मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक जी से डीएलएड कोर्स को पूरी तरह से मान्यता देने की मांग की व उसी से सम्बंधित पत्र भी मीटिंग के बाद स्पीड पोस्ट व फैक्स के माध्यम से एचआरडी मंत्री के कार्यालय भेजा।

मीटिंग में इखलाक अहमद डेविड, प्रदीप मिश्रा, मोहम्मद रफीक, विशाल शर्मा, नूर आलम, आदित्य चौबे, एजाज़ रशीद, विनय सोनकर, इस्लाम खान, मुकेश पाण्डेय, संजय शाह, तौफीक रेनू आदि लोग मौजूद थे।