ALL Social Crime State Politics Entertainment Press Conference Education Devlopment
कानपुर में सीएए को ले कर विपक्षियों पर गरजे योगी आदित्यनाथ
January 22, 2020 • Faisal Hayat • Politics

  • सीएए के समर्थन में कानपुर में आज गरजे सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ
  • कानपुर दक्षिण कमर्शियल मैदान में सीएम योगी की थी आज जनसभा
  • कानपुर में सीएए के समर्थन में सीएम योगी की रैली
  • रैली को लेकर जनता में जबरदस्त उत्साह दिखा

 कानपुर । सीएए के समर्थन में कानपुर में आज विपक्षियों पर खूब गरजे सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ । शहर के दक्षिण कमर्शियल मैदान में सीएम योगी की थी आज जनसभा उन्होंने जनसभा को सम्भोधित करते हुए कहा पूरे देश में मोदी जी के दूसरे कार्यकाल की धमक पूरी दुनिया में सुनाई पड़ रही है। हर गरीब को मकान, शौचालय, विद्युत कनेक्शन, स्वास्थ्य लाभ, किसान सम्मान, निधि का सम्मान, पहले कार्यकाल में देखने को मिले। नमामि गंगे के तहत मां गंगा कानपुर में निर्मल दिखाई पड़ती हैं । 2014 में उन्होंने जिस कहा था कि मुझे मां गंगा ने बुलाया है, वो उन्होंने प्रतिबद्धता से कर  दिखाई। उसी समर्थन में आज कानपुर में जनसैलाब उमड़ा है । कश्मीर में अलगाववाद की जननी 370 को खत्म किया.. पाकिस्तान को जवाब दिया। मुंबई हमले के बाद कांग्रेस कहती थी, कि हम पाकिस्तान पर हमला नहीं करेंगे, क्योंकि उसके पास एटम बम है। लेकिन जब कश्मीर में सेना पर हमला हुआ था, तो मोदी जी ने घुसकर मारा । जिसके बाद पाक पीएम इमरान खान देशों के सामने घिघयाता दिखा। ये नया भारत है  तीन तलाक की कुप्रथा कांग्रेस ने ना रोककर संसद में पलटा था। लेकिन मोदीजी ने मुस्लिम महिलाओं को इस कुप्रथा से मुक्ति दिलाई। अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने का मार्ग प्रशस्त किया। अयोध्या में राम मंदिर के फैसले ने भारत की मजबूत न्यायपालिका को दर्शाया है। पाकिस्तान बनाने का पाप कांग्रेस ने किया था। जिन हिंदुओं, जैनियों, पारसियों, सिखों पर पाकिस्तान में हमले हो रहे हैं, हम उनको नागरिकता देने का काम कर रहे हैं। सपा, कांग्रेस और विपक्षी दल में इतनी हिम्मत नहीं कि ये खुद कोई आंदोलन करें। ये लोग अब अपनी औरतों और बच्चों को चौराहे,चौराहे बैठाया जा रहा है, जबकि पुरुष घर में आराम कर रहे हैं। जिन महिलाओं को मालूम ही नहीं कि सीएए क्या है, उन लोगों को आगे किया जा रहा है, पूछने पर पुरुष कहते हैं कि हम अब अक्षम हैं । हमने आतंकवाद के ताबूत में अंतिम कील ठोंकने का काम किया है। दुनिया के सामने कैंड्ल मार्च निकालने वाले इन बेशर्मों के पास हिंदुओं पर हो रहे हमलों को लेकर जवाब नहीं है। ननकाना साहब में सिख युवक की हत्या हुई।

शांतिपूर्ण ज्ञापन देना सबका हक है, लेकिन हमले और सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान करो गए तो जो कार्यवाही तो होगी, जो आने वाली पीढ़ी याद रखेगी। भारत विरोधी नारे या कश्मीर की आजादी के नारे लगाये, तो ये भी माफ नहीं किया जाएगा। विपक्ष, दुश्मनों की भाषा बोल रहा है। बाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने आजादी की लड़ाई लड़ी थी। उन्होंने संविधान निर्माण में योगदान दिया, जो देश में भारत रत्न के रूप में अमर हो गये। जोगिंदर नाथ मंडल के लिए क्या किया गया, वो गुमनाम रहे, कोई भारतीय उनका नाम तक नहीं जानता, इन लोगों का योगदान हमेशा याद रखा जाएगा। सीएए के नाम पर सपा, कांग्रेस, वामपंथी और कुछ एनजीओ गुमराह करने की कोशिश कर रही है। पीएम मोदी ने पहले ही कहा है कि ये कानून नागरिकता देने का है, नागरिकता लेने का नहीं है। हम सबकी जिम्मेदारी है कि हमें मौन नहीं रहना। अपराध के लिए प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से साथ देना अपराध होगा। देश के चीरहरण के रूप में विपक्ष के अभियान का हम सभी नागरिकों को विरोध करना होगा।