ALL Social Crime State Politics Entertainment Press Conference Education Devlopment
कार्गो करे ऐसा कमाल-टैक्स चोरो का पार होए सुरक्षित माल
October 12, 2019 • Faisal Hayat


   कानपुर 12 अक्टूबर 2019 (नदीम सिद्दीकी)
परिवहन विभाग की उदासीनता के कारण बसे ट्रको में तब्दील होती लग रही है नियमो की अनदेखी कर पैसेंजर के बजाय बसो पर टैक्स चोरी के कर्मशियल लगेज लादे जा रहे है इससे जीएसटी विभाग को चुना लग ही रहा है साथ ही बसों की हालत भी खस्ता हो रही है जानते बुझते हुए भी विभाग गांधारी बना हुआ है 


शहीद मेजर सलमान झकरकटी बस अड्डा टैक्स चोरी के माल को ढोने का अड्डा बना हुआ है जिसका ठेका साई प्रसाद कार्गो को मिला हुआ है मोटी कमाई के लालच में कार्गो ठेकेदार सरकारी बसों को ट्रको की तरह इस्तेमाल कर रहे है पैसेंजर की जगह बसो में कमर्शियल लगेज ठूस ठूस कर भरे जा रहे है चालक के केबिन को भी लगेज से भूसे की तरह भर दिया जाता है मजे की बात तो ये है कि बस के अंदर जो लगेज ठूसा जाता है उस लगेज का स्वामी नदारद रहता है जबकि नियमतः लगेज स्वामी का रहना अनिवार्य है कार्गो से चालक परिचालक की पूर्ण संलिप्तता के कारण ही लगेज बिना किसी दिक्कत के गन्तव्य स्थान पर सुरक्षित पहुच जाते है ये सब करने के लिए चालक परिचालक को भी चढ़ावा दिया जाता है वही मौका मिलते ही चालक परिचालक भी चोरी छिपे लगेज लाद लेते है मिलने वाली रकम को आपस मे बाट लेते है  


 साईं प्रसाद कार्गो में बुक हुए माल की वजह से जीएसटी विभाग को रोज़ाना लाखो का चूना लगाया जा रहा है टैक्स देने से बचने के लिए व्यापारियों ने अपना माल ट्रांसपोर्ट में बुक करने के बजाय बस अड्डे पर स्थित कार्गो पार्सल से बुक करना शुरू कर दिया है कारण आधे से ज्यादा माल उनका टैक्स चोरी का होता है उस लगेज के अंदर क्या है ये भी कोई पूछने वाला नही होता है ऊपर से लगेज के साथ परिवहन करने की जरुरत भी नही पड़ती है रास्ते मे कोई दस्ता लगेज चेक करने भी नही आता है ट्रको के मुकाबले बस कम समय मे उनका माल सुरक्षित उनके द्वारे पहुचा देती है लाखो का टैक्स भी चुकाने से वो बच जाते है इसलिए ट्रको की जगह बसे व्यापारियों की पहली पसन्द बन चुकी है अब इसे साईं प्रसाद कार्गो का कमाल नही तो और क्या कहेंगे 


साई प्रसाद कार्गो के लाखो कमाने के चक्कर मे अंधाधुंध लगेज लादने से खस्ताहाल होती बसों से कभी भी कोई बड़ी दुघर्टना हो सकती है इसके अलावा सरकार को भी लाखों के टैक्स की चपत लग रही है इसकी भरपाई गांधारी बने विभागीय अधिकारी भी नही कर पाएंगे