ALL Social Crime State Politics Entertainment Press Conference Education Devlopment
मानव श्रंखला बना किया शराब का विरोध
November 7, 2019 • Faisal Hayat


==============================

कानपुर 07 नवम्बर पैगम्बर ए इस्लाम हज़रत मोहम्मद मुस्तफा (स०अ०व०) की यौम ए विलादत के दिन शराब की दुकानें बंद करने की इसी साल जनाब योगी आदित्यनाथ जी से घोषणा करने की मांग को लेकर बेगमपुरवा ईदगाह मैदान मे मोहम्मदी यूथ ग्रुप के अध्यक्ष इखलाक अहमद डेविड की अगुवाई मे मानव श्रृंखला बनाकर किया शराब का विरोध। मोहम्मदी यूथ ग्रुप के पदाधिकारी/मेम्बर व उलेमा भी मानव श्रृंखला मे शामिल हुए वो हाथो मे तख्तियां लिये थे जिन पर ईद मिलादुन्नबी के दिन शराब की दुकानें बंद करों, मुख्यमंत्री योगी जी शराब की दुकानें बंद करने का आदेश दे, मुसलमानों की भावनाओं का ख्याल रखें, प्रदेश सरकार व कानपुर नगर का प्रशासन शराब की दुकानें बंद करने का आदेश शीघ्र दे आदि नारे लिखे हुए थे। सैकड़ों की संख्या मे लोग शराब की दुकानें बंद करों बंद करों, योगी जी शराब की दुकानें बंद करने का आदेश दो, मुसलमानों की भावनाओं का ख्याल करों, सरकार की आमद मरहबा आदि ज़ोरदार नारे भी लगा रहे थे। ग्रुप के अध्यक्ष इखलाक अहमद डेविड ने कहा कि जुलूस ए मोहम्मदी एशिया का सबसे बड़ा जुलूस माना जाता है उसे वर्ल्ड रिकॉर्ड मे शामिल करने की कोशिश लगातार हो रही है उस दिन शराब पर पाबंदी लगाना ज़रुरी है जिससे पूरे मुल्क मे सूबे से नशा शराब के खिलाफ अच्छा पैगाम जाए। विगत कई वर्षों से मुख्यमंत्री जी के नाम कई सम्बोधित ज्ञापन जिला प्रशासन के माध्यम से भेजे जा चुके है लेकिन उस पर उ०प्र० शासन द्वारा कोई ध्यान नही दिया गया जिसकों लेकर मुसलमानों मे प्रदेश की योगी सरकार के खिलाफ नाराज़गी भी है। मोहम्मदी यूथ ग्रुप इसी साल ईद मिलादुन्नबी के दिन शराब की दुकानें बंद करने की घोषणा करने की मांग जनाब योगी आदित्यनाथ जी से करता है। कानपुर नगर मे शराब की दुकानें बंद करने की मांग को लेकर जिलाधिकारी जनाब विजय विश्वास पंत जी व कानपुर नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनाब अनन्त देव जी से भी ग्रुप का एक प्रतिनिधि मंडल मिल चुका है। एशिया के सबसे बड़े जुलूस मे कुछ शरारती असामाजिक तत्व अमन के दुशमन शराब पीकर जुलूस मे हुड़दंग कर शहर का माहौल खराब कर सकते है शराब की दुकान बंद होना बहुत ज़रुरी है।
मानव श्रंखला मे इखलाक अहमद डेविड, कुतुबुद्दीन खान, जुनैद अंसारी सैय्यद शाबान, आज़म महमूद, नईम शेरु, रौनक अली, मोहम्मद अबरार, शानू अब्बासी, तौफीक रेनू, हुजैफा रहमान, शब्बीर अंसारी, मोहम्मद अबरार, इमरान शकील, मोहम्मद शादान, काशिफ अंसारी, इस्लाम अंसारी, मोहम्मद ज़ाकिर, असगर अली, इकरार अहमद, मोहम्मद मोनू, मोहम्मद रईस, मोहम्मद मोहसिन, मेराज आलम, इम्तियाज अली, मोहम्मद आमिर, मोहम्मद महताब, गुलाम वारिस, गुलफाम अहमद राजू, शहबुद्दीन रज़ा, मोहम्मद ताहिर, खुर्शीद अहमद, मकसूद अली, मोहम्मद वसीम, इकराम बल्लू, मोहम्मद अंसारी, अफज़ाल अहमद, इस्लाम चिश्ती, एजाज़ रशीद, मोहम्मद आतिफ, काशिफ खान आदि सैकड़ो लोग मौजूद थे।