ALL Social Crime State Politics Entertainment Press Conference Education Devlopment
मगटा गांव की घटना की निष्पक्ष जांच एवं कठोर कार्यवाही हो:प्रा0सा0पा0
February 24, 2020 • Faisal Hayat • Politics

कानपुर । मगटा गांव की घटना की निष्पक्ष जांच कर दोषी लोगों पर तत्काल कठोर कार्रवाई किए जाने के संबंध में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया अध्यक्ष कानपुर महानगर आशीष चौबे के नेतृत्व में कानपुर मंडल आयुक्त को 7 सूत्री मांगो को लेकर ज्ञापन प्रेषित किया। ज्ञापन दौरान पूर्व मंत्री शिव कुमार बेरिया, राष्ट्रीय सचिव गोविंद त्रिपाठी स्वामी, यूथ ब्रिगेड के राष्ट्रीय सचिव सचिन बोरा, लोहिया वाहिनी ग्रामीण जिला अध्यक्ष आनंद शुक्ला उपस्थित हुए। ज्ञापन सौंपकर आशीष चौबे ने बताया कि मगटा गांव में 1 फरवरी से 8 फरवरी तक बौद कथा का आयोजन किया गया था जिसमें ग्राम के कुछ अराजक तत्वों ने बीच में ही व्यवधान डाला था जिसमें प्रशासन ने कुछ प्रभावशाली लोगों के दबाव में समझौता करा दिया था । गांव में 13 फरवरी को कुछ अराजक तत्वों के समूह ने एक योजनाबद्ध तरीके से गांव में हमला कर जिसमें पुरुषों के साथ महिलाएं बच्चे व नाबालिग लड़कियों के साथ उनके डंडों से बेरहमी से मारा पीटा कथा सुनने वाली लोगों को गंभीर चोट आई जिसमें यह स्पष्ट है इस घटना में प्रशासन से चूक हुई है । योगी सरकार में कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त गांव के लोग अपने ही लोगों पर सामूहिक हमला कर रहे हैं । पहले कभी भी ऐसी परिस्थिति उत्तर प्रदेश में नहीं थी योगी सरकार में हिंदू हिंदू को ही मार रहा है ऐसा प्रतीत होता रहा है कि उत्तर प्रदेश में जंगलराज कायम है प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया यह मांग करती है कि मगटा गांव के पीड़ितों को तत्काल एक ₹1 लाख का मुआवजा निष्पक्ष जांच कर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही पीड़ितों के ऊपर प्राणघातक हमले होने के बाद भी 307,308 की धाराओं को अंकित नहीं किया गया धाराओं में शामिल किया जाए पीड़ितों में एक नाबालिग बच्ची के साथ उसके कपड़े फाड़ का सामूहिक रूप से उसके साथ जबरदस्ती का प्रयास किया गया जिसमें दोषियों के खिलाफ पास्को एक्ट के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत किया जाए ।  पीड़ित एक 5 वर्षीय अबोधबालक को बेरहमी से पीटकर उसका हाथ तोड़ दिया गया बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अंतर्गत आता है कि आयोग द्वारा जांच कराकर दोषियों के खिलाफ गंभीर कार्रवाई कर मुकदमा पंजीकृत कराएं पीड़ितों को तत्काल सुरक्षा मुहैया कराई जाए वह गांव में एक स्थाई चौकी स्थापित की जाए दोषियों के नाम अगर असलाह लाइसेंस हो तो उसे तत्काल निरस्त किया जाए।