ALL Social Crime State Politics Entertainment Press Conference Education Devlopment
मोहम्मदी यूथ ग्रुप का हस्ताक्षर अभियान पहुँचा अजमेर शरीफ
February 2, 2020 • Faisal Hayat • Social

आज़म महमूद


सीएए/एनआरसी के विरोध में मोहम्मदी यूथ ग्रुप के हस्ताक्षर अभियान के अठारहवें चरण मे सुल्तान ए हिंद ख्वाजा गरीब नवाज़ के अजमेर शरीफ दरबार के खादिमों व ज़ायरीनों ने मुल्क की जम्हूरियत, हिंदू मुस्लिमों मे मोहब्बत, एकता भाईचारे को बचाने के लिए महामहिम राष्ट्रपति जी को हस्ताक्षरों के द्वारा गाँधी के देश में हिंदू मुस्लिम को बांटने वाले कानून सीएए को वापस करने व एनआरसी लागू न करने को लेकर मोहम्मदी यूथ ग्रुप के हस्ताक्षर अभियान मुहिम से जुड़कर अपना विरोध दर्ज कराया।
मोहम्मदी यूथ ग्रुप के टीम हिंद के सुल्तान हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज़ के दरबार अजमेर शरीफ पहुंची जहां अल्लाह से अपने हबीब गरीब नवाज़ के सदके में मुल्क में अमनो अमान कायम रहने, सीएए को वापस करने व एनआरसी को लागू न करने की मुल्क की सरकार को हिदायत देने, मुल्क में नफरत व मुल्क को बांटने वालों पर कहर नाज़िल करने, वहशियाना हरकत करने वालों को नेस्तनाबूद करने की दुआ की।


दुआ के बाद मोहम्मदी यूथ ग्रुप के पदाधिकारियों ने दरबार के खादिमों व ज़ायरीनों को हस्ताक्षर अभियान के बारे में  बताया जिस पर खादिमों व ज़ायरीनों ने हस्ताक्षर अभियान से जुड़कर अपने हस्ताक्षर कर सीएए को वापस करने और एनसीआर को लागू न करने का महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी से मांग की। हस्ताक्षर के अठारहवें चरण मे 786 हस्ताक्षर हुए। खादिमों ज़ायरीनो ने कहा कि गरीब नवाज़ के 900 साल पहले दिये गये पैगाम ने आज भी हिंदू मुस्लिम को एक सूत्र मे बांधा हुआ है हिंदू मुस्लिम मे नफरत फैलाने वाले एक बार गरीब नवाज़ के दरबार मे आकर हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई का आपसी भाईचारा सद्भाव देखे तो उनके ज़हरीले बोल पर लगाम लग जायेगी यह मुल्क सूफी संतों का इसे बांटने की कोशिश न करें। मोदी सरकार सीएए कानून वापस लेकर मुल्क के बाशिंदों को सुकून से रहने दे।
हस्ताक्षर अभियान में मुख्य रुप से इखलाक अहमद डेविड, सैय्यद वली नियाज़ी, सैय्यद फज़ले अली, सैय्यद तारिक मियाँ, सैय्यद रियासत अली, सैय्यद नईम अली, सैय्यद सकलैन चिश्ती, सैय्यद अजीज़ मियाँ, एस ए जमील, मोईन अली चिश्ती, ख्वाजा ए रशीद, मदार चिश्ती, मोहम्मद शाहिद, फिरोज़ खान, रईस मियाँ आदि लोग मौजूद थे।