ALL Social Crime State Politics Entertainment Press Conference Education Devlopment
सपाइयो ने जयप्रकाश नारायण की जयंती वं विचार गोष्ठी का किया आयोजन
October 11, 2020 • Faisal Hayat • Politics

कानपुर । समाजवादी चिंतक व विचारक लोकनायक जयप्रकाश नारायण की 118 वी जयंती के अवसर पर सपा कार्यालय नवीन मार्केट में नगर अध्यक्ष डॉक्टर इमरान की अध्यक्षता में विचार गोष्ठी संपन्न हुई । गोष्ठी का संचालन अजय यादव अज्जू ने किया गोष्ठी में नगर अध्यक्ष डॉक्टर इमरान ने अपने साथियों के साथ मिलकर लोकनायक जयप्रकाश नारायण के चित्र पर सर्वप्रथम माल्यार्पण कर उन्हें अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किए । गोष्ठी को संबोधित करते हुए नगर अध्यक्ष डॉक्टर इमरान ने अपने संबोधन में कहा कि लोकनायक जयप्रकाश नारायण का जन्म 11 अक्टूबर 1902 में उत्तर प्रदेश के बलिया जिला के 1 गांव सिताब दियारा में हुआ था । डॉक्टर इमरान ने आगे बताया कि जयप्रकाश नारायण की एक हुंकार पर नौजवानों को जत्था सड़कों पर निकल पड़ता था । संतो जैसा आभामंडल दो नेताओं एक महात्मा गांधी और दूसरे जयप्रकाश नारायण को प्राप्त हुआ था उन्होंने 1974 में सिंहासन खाली करो जनता आ रही है के नारे के साथ मैदान में उतरे तो सारा देश उनके पीछे चल पड़ा । सन 1999 में लोकनायक जयप्रकाश नारायण जी को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया लोकनायक जयप्रकाश नारायण जी की समस्त जीवन यात्रा संघर्ष तथा साधना से भरपूर रही उसमें अनेकों पड़ाव आए उन्होंने भारतीय राजनीति को ही नहीं बल्कि आम जनजीवन को भी एक नई दिशा दी कई नए मानक बनाए जैसे भौतिकता बाद से अध्यात्म राजनीति से सामाजिक कार्य तथा जबरन सामाजिक सुधार से व्यक्तिगत दिमाग को परिवर्तन व विदेशी सत्ता से देसी सत्ता से व्यवस्था से व्यक्तिगत परिवर्तन व्यक्ति परिवर्तन से नैतिकता के पक्षधर थे उन्होंने संपूर्ण जीवन भारतीय समाज की समस्याओं के समाधान के लिए न्योछावर कर दिया । महात्मा गांधी जयप्रकाश के साहस और देशभक्त के प्रशंसक थे उनका हजारीबाग जेल से भागना काफी चर्चित रहा इसके कारण करोड़ों युवकों के ह्रदय सम्राट बन चुके थे वे अत्यंत भावुक और महान क्रांतिकारी भी थे । उन्होंने कभी मर्यादा की सीमा का उल्लंघन नहीं किया विषम परिस्थितियों में भी उन्होंने अपना साहस नहीं छोड़ा उनका समाजवाद का नारा आज हर तरफ गूंज रहा है भले ही उनके नारे पर राजनीति करने वाले उनके सिद्धांतों को भूल गए हैं क्योंकि उनका संपूर्ण क्रांति का नारा एवं आंदोलन समाज से उद्देश्यों एवं बुराइयों को समाप्त करने के लिए था । संपूर्ण क्रांति का आह्वान पर उन्होंने कहा था कि भ्रष्टाचार मिटाना है बेरोजगारी दूर करना है शिक्षा में क्रांति लाना है आज चीजें ऐसी हैं जो आज की व्यवस्था से पूरी नहीं हो सकती । गोष्टी में पूर्व लोकसभा प्रत्याशी राम कुमार एडवोकेट,कुतुबुद्दीन मंसूरी,अशोक केसरवानी,सोमेंद्र शर्मा,सुभाष द्विवेदी,निखिल यादव,रणवीर यादव,साहिबे आलम,ईतू बाजपेई,श्रेष्ठ गुप्ता,अमर बहादुर, संतोष जिद्दी,इरफान ,हाजी यूनुस,जितेंद्र यादव,वीरेंद्र त्रिपाठी, शिव कुमार बाल्मीकि, जय राम सिंह यादव, अमरजीत यादव,शेषनाथ यादव,मोहम्मद सारिया,रिंकू सेंगर बलवंत सिंह,गौर के के मिश्रा,राजू पंडित,नंदलाल जायसवाल, टिल्लू जयसवाल,रेहान अहमद,रितेश सोनकर,मुन्ने खां,कमल बाल्मिक,शिवकुमार बाल्मिक, मोहम्मद तारिक,कामता प्रसाद द्विवेदी,विनोद मिश्रा,उपेंद्र यादव,महेंद्र निषाद,अरविंद यादव,सुधीर त्रिवेदी,बॉबी भाई अनिल चौबे आदि सैकड़ों लोग उपस्थित रहे ।