ALL Social Crime State Politics Entertainment Press Conference Education Devlopment
सरकार की जनहित की नीतियों को समाज के अंतिम वर्ग तक पहुंचाने के लिए एसपीजी का गठन - ज्योति बाबा 
December 9, 2019 • Faisal Hayat • Social

सिद्धार्थ ओमर

कानपुर l  सरकार की जनप्रिय नीतियों और योजनाओं को समाज के अंतिम वर्ग तक पहुंचाने के लिए विभिन्न सामाजिक संगठनों के सहयोग से सोशल प्रेशर ग्रुप एसपीजी का गठन समय की जरूरत है उपरोक्त बात सोसायटी योग ज्योति इंडिया , दोस्त सेवा संस्थान , स्वतंत्रता संग्राम सेनानी आश्रित एवं सैनिक संस्था व नागरिक रक्षक समिति समेत अन्य सामाजिक संगठनों के संयुक्त तत्वाधान में हरी गर्ल्स हॉस्टल काकादेव में आयोजित संगोष्ठी शीर्षक " सरकार की  जनप्रिय योजनाओं के क्रियान्वयन में सामाजिक संगठनों की भूमिका" पर अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कही l
बाबा श्री ने आगे कहा कि सभी संगठन समाज के अति पिछड़े व गरीब तबके को न्याय दिलाने  तथा उनके अधिकारों की रक्षा के लिए सोशल प्रेशर ग्रुप बनाना अति आवश्यक है स्वतंत्रता संग्राम सेनानी आश्रित व सैनिक संस्था के अध्यक्ष रवि शुक्ला ने कहा की सरकार की योजनाएं अच्छी हैं लेकिन उनको क्रियान्वित करने वाले लापरवाही करके छवि बिगाड़ने का काम करते हैं विभिन्न संगठनों का गठजोड़ सोशल प्रेशर ग्रुप सरकार की जन परियोजनाओं को वास्तविक लाभार्थी तक पहुंचाने का काम करेगी l प्रमुख समाज सेवी कैप्टन एससी त्रिपाठी व अजीत खोटे ने कहा कि लोगों में जन चेतना व जागरूकता कि आज भी बेहद कमी है परिणाम स्वरूप हर जनप्रिय योजना भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाती है इसीलिए विभिन्न संगठनों का समूह सोशल प्रेशर ग्रुप धूर्त अधिकारियों पर नकेल डालने का काम करेगा l  संगोष्ठी में विभिन्न वक्ताओं ने आरटीआई आरटीई समेत प्रदूषण मुक्त भारत जनसंख्या नियंत्रण शुद्ध जल शुद्ध वायु इत्यादि विषयों पर विशेष चर्चा की l
संगोष्ठी के अंत  में सभी ने हैदराबाद बलात्कार व उन्नाव बलात्कार कांड में मृत बेटियों को श्रद्धांजलि स्वरुप 2 मिनट का मौन भी रखा और ज्योति बाबा श्री ने सभी को नशा हटाओ बेटी बचाओ भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाओ की महाशपथ भी दिलाई l
 अन्य प्रमुख भाग लेने वाले सर्व श्री विजय चावला ,डी सान्याल तेज बहादुर सिंह ,मानवाधिकार वादी गीता श्री ,राकेश मिश्रा "निडर" दिव्या पांडे ,विवेक हिंदू, ,सुशील गुप्ता  इत्यादि थे