ALL Social Crime State Politics Entertainment Press Conference Education Devlopment
वाह क्या मरतबा ऐ गौस है बाला तेरा, ऊंचे ऊंचों के सरों से कदम आला तेरा
December 9, 2019 • Faisal Hayat • Social

शाह मोहम्मद

कानपुर 09, दिसम्बर शांतिपूर्ण वातावरण में हज़रत बड़े पीर साहब गौस ए आज़म की याद में मरकज़ी जुलूस ए गौसिया अपनी प्राचीन सज धज के साथ कर्नलगंज तिकुनियां पार्क से आल इण्डिया सुन्नी जमीअतुल उलमा के नेतृत्व तथा अंजुमन ए गौसिया के तत्वावधान मे आरम्भ हुआ जिसमें 150 से अधिक अंजुमनों शामिल हुई जुलूस के आगे जीप पर अंजुमन गौसिया के जनरल सेक्रेटरी नफीस नूरी जुलूस का संचालन व शांतिपूर्ण वातावरण बनाये रखने की अपील करते चल रहे थे। जुलूस की कयादत हाफिज़ सैय्यद ताहिर मियाँ बिलग्राम शरीफ ने की। अंजुमन के अध्यक्ष मोहम्मद सुलेमान वारसी हाथ मे सुन्नी जमियतुल उलमा का परचम लहरा रहे थे।
वाह क्या मरतबा ऐ गौस ए बाला तेरा, ऊंचे ऊंचों के सरो से कदम आला तेरा जैसे नगमों की आवाज़ पूरे जुलूस मे गूंज रही थी, रास्तों मे जगह जगह लोगों ने कैम्प लगाकर जुलूस का स्वागत फूलों की पंखुड़ियों इत्र से किया जा रहा था साथ ही साथ तबर्रुक भी बांटा जा रहा था। मोहम्मदी यूथ ग्रुप के जुलूस के रास्तों मे कैम्प लगे थे जहां से जुलूस का इस्तकबाल व लंगर बांटा जा रहा था।
शहर के अधिकांश उलेमाए कराम व खानकाहों के सज्जादानशीनो ने भी इस जुलूस का नेतृत्व किया जिनमें मोहम्मद हनीफ बरकाती, मौलाना जलील अहमद हशमती, मौलाना कारी इकबाल बेग, इखलाक अहमद डेविड चिश्ती, मौलाना मुर्तजा शरीफी मुख्य थे। जुलूस कर्नलगंज तिकुनियां पार्क, नीची सड़क, कारी साहब का पार्क, चूँड़ी मोहाल, बजरिया, छिपयाना नीली पोश रोड, कागज़ी मोहाल, शफी होटल, डा० बेरी का चौराहा, रुपम चौराहा, कंघी मोहाल, गुलाब घोसी मस्जिद, मोहम्मद अली पार्क, हलीम कालेज चौराहा, फहीमाबाद मस्जिद, तिकुनिया पुरवा, इकबाल लाइब्रेरी, बाँसमण्डी चौराहा, रजबी रोड, नई सड़क, पेंचबाग, दादा मियाँ चौराहा, तलाक महल, रेडीमेड बाज़ार बाबा स्वीट, रहमानी मार्केट, कास्ताना रोड होते हुआ मगरीब की नमाज़ अदा करने के बाद अंजुमन गौसिया के दफ्तर पर सलातो सलाम के बाद खत्म हुआ। अंजुमने गौसिया के अध्यक्ष मोहम्मद सुलेमान वारसी ने जुलूस मे शामिल अंजुमनों व शहरी इंतेज़ामिया का शुक्रिया अदा किया।
जुलूस की निगरानी व्यवस्था में तंज़ीमों व जिला प्रशासन की मदद करने मे योगदान देने वालों मे खलील अहमद नूरी, रईस वारसी, अब्दुल रहमान वारसी, इमरान वारसी, इखलाक अहमद डेविड चिश्ती, मुरसलीन खाँ भोलू, हाफिज़ मोहम्मद कफील, शहज़ादे वाहिदी, डा० मुस्तफा तारिक , जावेद बेग, मोहम्मद अमीम खान, अब्दुल वहीद कादरी, मोहम्मद मुशीर, इस्लाम खान चिशती, शफाअत हुसैन, एजाज़ रशीद, सैय्यद अरशद, सैय्यद शादाब अली, इरफान बरकाती, तौफीक रेनू, इरफान अशरफी, मोहम्मद शादाब, शकील बेग कादरी, तहसीन अंसारी, मोहम्मद अनवार खान, रज़ा खान, फैज़ान खान, मोहम्मद मोबिन खान, मोहम्मद अदनान खान, अफज़ाल अहमद,  आदि थे।